Karnavati 24 News
તાજા સમાચાર
ताजा समाचार
जीवन शैली

कोरोना पर बड़ा सवाल: कुछ लोग दूसरों से ज्यादा बीमार क्यों होते हैं?

कोरोना महामारी अब तक दुनिया भर में 51 मिलियन से अधिक लोगों को बीमार कर चुकी है और लगभग 62.5 मिलियन लोगों की मौत हो चुकी है। इस बीच, वैज्ञानिक यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि कुछ लोग दूसरों की तुलना में कोरोना से बीमार क्यों होते हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका में बोस्टन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने हाल के एक अध्ययन में इसका जवाब दिया है। उनका कहना है कि इनके पीछे मैक्रोफेज नामक प्रतिरक्षा कोशिकाएं होती हैं। शोध जर्नल सेल रिपोर्ट्स में प्रकाशित हुआ है।

शरीर में मैक्रोफेज कोशिकाओं की भूमिका

मैक्रोफेज एक प्रकार की श्वेत रक्त कोशिका है जो हमारे प्रतिरक्षा तंत्र की रक्षा करती है और शरीर में घावों को भरती है। इससे विदेशी वस्तुएं जैसे वायरस, बैक्टीरिया और मृत कोशिकाएं पच जाती हैं जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता समान रहती है।

वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि कोरोना से होने वाली कई मौतों के लिए इम्यून सिस्टम की भारी गतिविधि जिम्मेदार है। यानी संक्रमण के दौरान मैक्रोफेज न सिर्फ वायरस बल्कि हमारे शरीर पर भी हमला करते हैं, जिससे सूजन के कारण दिल और फेफड़ों को नुकसान पहुंचता है।

मैक्रोफेज अच्छे या बुरे होते हैं

शोधकर्ताओं के अनुसार, उन्होंने शरीर में कोरोना संक्रमण के प्रति प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया को समझने के लिए एक मॉडल विकसित किया है। इसके जरिए वैज्ञानिकों ने मानव शरीर में कोरोना बीमारी के हर चरण पर नजर रखी।

शोध में शामिल प्रोफेसर फ्लोरियन डोम का कहना है कि उन्होंने मरीजों के फेफड़ों में बहुत कम वायरस देखे हैं। ये फेफड़े पूरी तरह से सुरक्षित थे। यह मैक्रोफेज के कारण हो सकता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि मैक्रोफेज दो प्रकार के होते हैं। पहला – जो एंटी-वायरल दवाओं की सही मात्रा में ठीक से प्रतिक्रिया करके शरीर की रक्षा करता है और दूसरा – सूजन पैदा करके अंगों को नुकसान पहुंचाता है।

मैक्रोफेज की सकारात्मक प्रतिक्रिया के पीछे 11 जीन

वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि मैक्रोफेज कोशिकाओं की सकारात्मक प्रतिक्रिया 11 जीनों से जुड़ी होती है। इन जीनों को रक्षा-परिभाषित जीन भी कहा जाता है। ये लोगों को कोरोना के सबसे गंभीर लक्षणों से बचाने का काम करते हैं. यानी कोरोना से लड़ने में उनका बहुत बड़ा हाथ है. इसके अलावा, इन अध्ययनों से पता चलता है कि मैक्रोफेज फेफड़ों की रक्षा करते हैं।

हालांकि, इस पर अधिक शोध की आवश्यकता है कि क्यों मैक्रोफेज प्रत्येक कोरोनरी रोगी में सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं देते हैं।

संबंधित पोस्ट

वैज्ञानिकों ने किया चमत्कार: मौत के 5 घंटे बाद क्षतिग्रस्त हुई इंसान की आंखें, वैज्ञानिकों ने लौटाई रोशनी

Karnavati 24 News

मानस नेशनल पार्क : 500 वर्ग किलोमीटर में फैली इस प्राकृतिक सुंदरता का लुत्फ़ उठाइये

Karnavati 24 News

जन्माष्टमी पर मथुरा-वृंदावन पहुंचे लाखों श्रद्धालु; बांके बिहारी के दर्शन हेतू

Karnavati 24 News

बच्चो को ग्राइप वाटर क्यों और कब पिलानी चाहिए जाने।

Karnavati 24 News

साइकिल चलाने से कई बीमारियां ठीक हो जाती हैं, लेकिन लोगों साइकिलिंग से बचते हैं

Karnavati 24 News

घर में क्यों बनाना चाहिए स्वास्तिक का निशान?

Karnavati 24 News