Karnavati 24 News
તાજા સમાચાર
ताजा समाचार
जीवन शैली

क्या आपका बच्चा नींद के दौरान 180 डिग्री मुड़ता है: ये आराम से सोने की रणनीतियाँ; मनुष्य उम्र के साथ सीधे सोना सीखता है

छोटे बच्चे न केवल दिन भर घर में शोर मचाते हैं, बल्कि रात में नींद के दौरान अराजक तरीके से सोकर अपने माता-पिता को भी परेशान करते हैं। परिजनों की शिकायत है कि छोटे बच्चे खुलेआम सोते हैं और हाथ-पैर मारते रहते हैं।

लेखिका जेसिका ग्रॉस कहती हैं, ‘मेरी 5 साल की बेटी पागलों की तरह सोती है। जब तक मैं सुबह उठता हूं, वह अपनी मूल स्थिति से 180 डिग्री या उससे अधिक हो चुकी होती है। उसका सिर नीचे है और उसके पैर तकिए पर हैं। कभी वह आधा बिस्तर पर और आधा बिस्तर के नीचे होती है। इतना ही नहीं कई बार बैले डांस की मुद्रा में सेई भी लग जाती है। सबसे भयानक है उसकी नींद में लात मारना, जिससे मुझे कई बार चोट लग चुकी है।

अधिकांश शिशुओं के लिए नींद में चलना सामान्य है

ग्रोस कहते हैं, “मेरी बेटी के इस व्यवहार ने मुझे तीन नींद विशेषज्ञों से बात करने के लिए मजबूर किया। मैंने उनसे पूछा कि छोटे बच्चे वयस्कों या बड़े बच्चों की तुलना में अधिक बार क्यों सोते हैं। अल्बर्ट आइंस्टीन कॉलेज ऑफ मेडिसिन में न्यूरोलॉजी, मनश्चिकित्सा और व्यवहार विज्ञान विभाग में सहायक प्रोफेसर। शेल्बी हैरिस कहते हैं, “ज्यादातर शिशुओं के लिए नींद के दौरान हलचल सामान्य है। वयस्कों सहित हर कोई नींद के चक्रों के बीच जागता है। हम उम्र के साथ तकिए पर सिर रखकर और पैर नीचे करके सोना सीखते हैं।

बच्चा आराम से सोने के लिए शरीर को हिलाता है

इसलिए जब बच्चे नींद के चक्रों के बीच जागते हैं, तो वे शरीर को सबसे आरामदायक स्थिति में लाने के लिए आगे बढ़ते हैं। उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनके सिर के नीचे तकिया है या नहीं। अमेरिकन एकेडमी ऑफ साइंसेज में स्लीप मेडिसिन के एक साथी, लिनेल श्नीबर्ग कहते हैं, छोटे बच्चे सोने के कुछ अपरंपरागत तरीके विकसित करते हैं। उनकी दिनचर्या में पैरों से लात मारना, पैरों को आपस में रगड़ना या शरीर को हिलाना शामिल हो सकता है। वे अपनी नींद में भी यही प्रक्रिया दोहराते हैं।

वहीं, येल न्यू हेवन चिल्ड्रेन हॉस्पिटल में पीडियाट्रिक स्लीप मेडिसिन प्रोग्राम के निदेशक डॉ. क्रेग कैनापारी कहते हैं, ”अगर कोई बच्चा बहुत परेशान महसूस कर रहा है, तो बाल रोग विशेषज्ञ से बात करने की जरूरत है.”

अगर बच्चा उल्टा सोता है तो बाल रोग विशेषज्ञ से बात करें

डॉ. कैनापारी कहती हैं, ‘अगर बच्चा बार-बार जागता है और फिर उसे सोने में दिक्कत होती है, तो यह लंबे समय तक सोने के कारण हो सकता है। अगर बच्चा सुबह में चिड़चिड़ापन दिखाता है या दिन में उसे व्यवहार संबंधी समस्याएं होती हैं, तो उसे ठीक से नींद न आने जैसी समस्या हो सकती है। खर्राटे लेना ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का संकेत हो सकता है। पैर में दर्द रेस्टलेस लेग सिंड्रोम का संकेत हो सकता है।

संबंधित पोस्ट

घर पर चेहरा साफ करने के लिए अपनाएं ये टिप्स

Karnavati 24 News

सर्दियों में ज़रूर खाएं मेथी और गोंद के लडडू। जाने रेसिपी।

Admin

थ्रेडिंग के बाद होने वाली जलन से ऐसे पाएं छुटकारा

Admin

Omicron: गर्भवती महिलाओं को ओमिक्रॉन के प्रभाव ऐसे रख सकते हैं सुरक्षित

Karnavati 24 News

आज ही अपनी डाइट में जोड़े घी और शक्कर का मिश्रण,फायदे जानकर हैरान रह जाओगे

Karnavati 24 News

घर में यश समृद्धि और सुख शांति के लिए घर के बाहर इस तरह के फूलों को लगाएं

Admin