Karnavati 24 News
તાજા સમાચાર
ताजा समाचार
बिज़नेस

लिस्टिंग से 1 दिन पहले एलआईसी के शेयर ग्रे मार्केट में गिरे

कल यानी 17 मई को देश के सबसे बड़े एलआईसी आईपीओ की लिस्टिंग होनी है। इससे पहले आईपीओ में सफल निवेशकों के लिए बुरी खबर सामने आ रही है। ग्रे मार्केट में एलआईसी के आईपीओ का प्रीमियम (जीएमपी) लिस्टिंग से पहले और गिर गया है, जो डिस्काउंटेड लिस्टिंग का संकेत देता है।

लिस्टिंग से एक दिन पहले सोमवार को एलआईसी के आईपीओ का जीएमपी माइनस 25 रुपये पर आ गया है। एक समय यह ग्रे मार्केट में 92 रुपये के प्रीमियम के साथ कारोबार कर रहा था। टॉप स्टॉक ब्रोकर्स के आंकड़ों के मुताबिक एलआईसी के आईपीओ का ग्रे मार्केट प्रीमियम फिलहाल माइनस 15 रुपये है।

छूट सूचीबद्ध किया जा सकता है
इससे एलआईसी के आईपीओ की लिस्टिंग डिस्काउंट पर की जा सकती है। ग्रे मार्केट प्रीमियम में इसके संकेत हैं। एलआईसी ग्रे मार्केट में अपने इश्यू प्राइस 949 रुपये प्रति शेयर से 25 रुपये तक की छूट पर है। यानी खुदरा निवेशकों को आईपीओ में मिलने वाले डिस्काउंट रेट से यह महज 20 रुपये ज्यादा है. ग्रे मार्केट में अगर एलआईसी का प्रीमियम और नीचे आता है तो निवेशकों को नुकसान हो सकता है।

विदेशी और संस्थागत निवेशकों से अच्छा रिस्पॉन्स नहीं मिलने से सेंटीमेंट खराब
ग्रे मार्केट पर नजर रखने वाले ज्यादातर डीलरों का कहना है कि आईपीओ को विदेशी और संस्थागत निवेशकों की खराब प्रतिक्रिया से ग्रे मार्केट सेंटीमेंट प्रभावित हुआ है। सेकेंडरी मार्केट में उतार-चढ़ाव आग में घी का काम कर रहा है। अभय दोशी, सह-संस्थापक, अनलिस्टेड एरिया ने कहा, “मुद्रास्फीति की चिंताओं ने नीति को कड़ा कर दिया है जो पूरे इक्विटी स्पेस को नुकसान पहुंचा रही है।

इश्यू को 2.95 गुना सब्सक्राइब किया गया
एलआईसी के आईपीओ को निवेशकों का अच्छा रिस्पॉन्स मिला है। हालांकि आकर्षक वैल्यूएशन के बावजूद यह विदेशी और संस्थागत निवेशकों को लुभाने में नाकाम रही है। 9 मई को इस आईपीओ के सब्सक्रिप्शन का आखिरी दिन था, जो 4 मई को रिटेल और अन्य निवेशकों के लिए खुला। इश्यू 2.95 गुना सब्सक्राइब हुआ। 16.2 करोड़ शेयरों के मुकाबले 47.77 करोड़ शेयरों के लिए बोलियां प्राप्त हुईं।

पॉलिसीधारकों का भाग 6.10 बार भरा गया
पॉलिसीधारकों के लिए आरक्षित हिस्से को 6.10 गुना, स्टाफ को 4.39 गुना और खुदरा निवेशकों के हिस्से को 1.99 गुना अभिदान मिला है। क्यूआईबी के आवंटित कोटा को 2.83 गुना बोलियां मिली हैं, जबकि एनआईआई के शेयर को 2.91 गुना अभिदान मिला है। शेयर 17 मई को स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट होंगे। ज्यादातर मार्केट एनालिस्ट्स ने आईपीओ में निवेश करने की सलाह दी थी।

छूट पर सूचीबद्ध होने की संभावना नहीं
आईआईएफएल सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटी एंड करेंसी) अनुज गुप्ता का कहना है कि एलआईसी के आईपीओ के डिस्काउंट पर लिस्ट होने की संभावना नहीं है। एलआईसी के शेयर 1,200 से 1,300 रुपये पर लिस्ट हो सकते हैं।

लंबे समय तक धारण करने के लिए अच्छा है
अनुज गुप्ता के मुताबिक, एलआईसी का शेयर एक साल में 2,000 रुपये तक पहुंच सकता है। इस मामले में, इसे कम से कम 1 वर्ष के लिए आयोजित किया जाना चाहिए। वहीं आप इसे जितनी देर तक रखेंगे, यह उतना ही फायदेमंद साबित होगा।

संबंधित पोस्ट

मास्टरकार्ड बना BCCI का नया टाइटल स्पॉंसर, PAYTM की हो गयी छुट्टी

Karnavati 24 News

Loan on Fixed Deposit: પૈસાની જરૂર હોય ત્યારે તોડશો નહીં FD, મળી જશે લોન, જાણો કેવી રીતે કરશો એપ્લીકેશન

कोरोना काल में दोगुने हुए शेयर बाजार में निवेशक: मार्च 2020 में 4.09 करोड़ डीमैट खाते थे, जो अब बढ़कर 8.97 करोड़ हो गए

Karnavati 24 News

મોદી સરકાર માટે ગુડ ન્યૂઝ, એપ્રિલમાં સૌથી વધુ GST કલેક્શન, તોડ્યો 6 વર્ષનો રેકોર્ડ

Admin

बिजनेस टाइकून सुनील मित्तल के छोटे भाई राजन मित्तल भी है अरबपति; उनका नेट वर्थ है…

Karnavati 24 News

क्राइम: दोस्त के बेटे को प्लाॅट बेचने के लिए दिया तो वह हड़प कर गया, चार पर केस दर्ज

Admin