Karnavati 24 News
તાજા સમાચાર
ताजा समाचार
बिज़नेस

पवन हंस को मिला खरीदार: सरकारी हेलीकॉप्टर ऑपरेटर में 51% हिस्सेदारी खरीदेगा स्टार 9, लंबे समय से घाटे में चल रही कंपनी

 

केंद्र सरकार ने शुक्रवार को पवन हंस लिमिटेड (पीएचएल) में अपनी संपूर्ण 51% हिस्सेदारी की बिक्री और प्रबंधन नियंत्रण के हस्तांतरण के लिए स्टार 9 मोबिलिटी प्राइवेट लिमिटेड की बोली को मंजूरी दे दी। आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने अक्टूबर 2016 में पीएचएल के रणनीतिक विनिवेश को मंजूरी दी थी। इस विनिवेश का पूर्व में तीन बार प्रयास किया जा चुका है।

पवन हंस भारत सरकार और ओएनजीसी के बीच एक संयुक्त उद्यम है, जो हेलीकॉप्टर और एयरो मोबिलिटी सेवाएं प्रदान करता है। भारत सरकार के पास कंपनी में 51% शेयर हैं और ONGC के पास 49% शेयर हैं। ओएनजीसी भारत सरकार के रणनीतिक विनिवेश लेनदेन में अपनी पूरी हिस्सेदारी एक सफल बोली लगाने वाले को भी बेचेगी। इसकी कीमत और नियम व शर्तें भी वही करेंगी।

चौथी सफलता

पहले दौर में, प्रारंभिक सूचना ज्ञापन (पीआईएम) 13 अक्टूबर 2017 को जारी किया गया था जिसमें रुचि की अभिव्यक्ति (ईओआई) की मांग की गई थी। प्राप्त चार ईओआई में से केवल एक पात्र पाया गया और लेनदेन रद्द कर दिया गया।
दूसरे दौर में, 14 अप्रैल, 2018 को ईओआई की मांग करते हुए पीआईएम जारी किया गया था और दो बोलीदाताओं को योग्य पाया गया था। उन्हें प्रस्ताव के लिए अनुरोध (आरएफपी) जारी किया गया था। इस बार भी अधूरी बोली के कारण लेनदेन पूरा नहीं हो सका।
तीसरे दौर में, ईओआई की मांग करते हुए 11 जुलाई 2019 को पीआईएम जारी किया गया था। इस बार भी चार ईओआई में से एक ही पात्र पाया गया, प्रक्रिया को रद्द कर दिया गया।
8 दिसंबर 2020 को चौथी बार ईओआई मांगे गए थे। इस बार 7 ईओआई एमएसईसी और चार इच्छुक बोलीदाताओं को योग्य बोलीदाताओं के रूप में चुना गया था। इसके बाद योग्य बोलीदाताओं को वित्तीय बोलियां जमा करने के लिए आमंत्रित किया गया। इसे तीन वित्तीय बोलियां मिलीं।
स्टार 9 मोबिलिटी की बोली 211.14 करोड़ रुपये
पीएचएल में 51% हिस्सेदारी की बिक्री के लिए आरक्षित मूल्य 199.92 करोड़ रुपये तय किया गया था। मेसर्स स्टार9 मोबिलिटी प्राइवेट लिमिटेड, मेसर्स महाराजा एविएशन प्राइवेट लिमिटेड और मेसर्स अल्मास ग्लोबल अपॉर्चुनिटी फंड एसपीसी ने 211.14 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। अन्य दो बोलियां 181.05 करोड़ रुपये और 153.15 करोड़ रुपये के लिए थीं। सरकार ने विचार-विमर्श के बाद स्टार9 मोबिलिटी की वित्तीय बोली को स्वीकार कर लिया।

अब आगे की प्रक्रिया क्या होगी?
अगले चरण में, अब पुरस्कार पत्र जारी किया जाएगा, शेयर खरीद समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे और लेनदेन बंद हो जाएगा। PHL को पिछले तीन साल (FY-19, FY-20 और FY-21) से घाटा हो रहा है। कंपनी के पास 42 हेलीकॉप्टरों का बेड़ा है, जिनमें से 41 को कंपनी ने ही खरीदा है। इन हेलीकॉप्टरों की औसत आयु 20 वर्ष से अधिक है।

कंपनी का गठन 1985 . में हुआ था
पवन हंस देश में एकमात्र सरकारी हेलीकॉप्टर सेवा प्रदाता है। इस कंपनी की स्थापना अक्टूबर 1985 में हुई थी। 6 अक्टूबर 1986 को पवन हंस ने ओएनजीसी के लिए पहला वाणिज्यिक संचालन शुरू किया। ओएनजीसी के लिए परिचालन शुरू होने के साथ ही कंपनी की विदेशी हेलीकॉप्टरों पर निर्भरता समाप्त हो गई। इसके अलावा कंपनी पूर्वोत्तर राज्यों के सरकारी कार्यों में भी हेलीकॉप्टर सेवा प्रदान करती है। पवन हंस भी हादसे के लिए बदनाम रहे हैं।

संबंधित पोस्ट

शेयर बाजार में उछाल, सेंसेक्स 1400 अंक से अधिक बढ़कर 60700 . पर पहुंचा

Karnavati 24 News

रिजर्व बैंक की तीन दिवसीय बैठक आज से: रेपो और रिवर्स रेपो रेट पर हो सकता है अहम फैसला, पिछले महीने रेपो रेट में भी किया गया था इजाफा

Karnavati 24 News

7th pay commission: કેન્દ્રીય કર્મચારીઓનું DA ફરી વધી શકે છે, પગારમાં થશે બમ્પર વધારો

Admin

આ સરકારી યોજના બેંક FD કરતા છે વધુ ફાયદાકારક, વધુ રિટર્નની સાથે મળે છે ટેક્સ કપાતનો બેનિફિટ

Admin

સાથીકર્મીઓને જેલમાં મોકલવાને બદલે ભારતીય કાયદાઓનું પાલન કરીશું: BBCની મોદી ડોક્યુમેન્ટરી પર બોલ્યા એલન મસ્ક

Admin

હીરા પેઢી પક ઈન્કમ ટેક્સની રેડ અભી જારી, સુરતમાં 200 કરોડના ડૉક્યુમેન્ટ મળ્યા Article General User ID: NAVNR160 National 8 min 4 1

Admin