Karnavati 24 News
તાજા સમાચાર
ताजा समाचार
विदेश

राइफलमैन अक्षय पठानिया का आज होगा सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार

अरूणाचल प्रदेश में हिमस्खलन की चपेट में आने वाले सात जवानों में शामिल राईपफलमैन अक्षय पठानिया की पार्थिव देह आज उनके पठानकोट पहुंचेगी।ं जहां उनके पैतृक गांव चक्कड़ में पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका दाह।संस्कार किया जाएगा।

पठानकोट के गांव चक्कड़ का निवासी 24 वर्षीय राइफलमैन अक्षय पठानिया के पिता पूर्व सैनिक हवलदार सागर सिंह पठानिया को बेटे की यूनिट से उसकी शहादत हो जाने की खबर मिली तो परिवार के साथ-साथ पूरे गांव में मातम छा गया व किसी को भी यकीन नहीं हो रहा था कि अक्षय पठानिया शहीद हो चुका है। पूरे गांव में अक्षय पठानिया की शहादत के चलते इस गमगीन माहौल है। वहीं,अक्षय पठानिया अपने बड़े भाई सिपाही अमित पठानिया जोकि सेना की 14 जैक राइफल्स यूनिट तिब्बड़ी में तैनात है एवं बहन रवीना पठानिया में सबसे छोटा होने के साथ-साथ सबका प्रिय भी था।
शहीद राइफलमैन अक्षय पठानिया के पिता रिटा.हवलदार सागर सिंह पठानिया ने बताया कि उनकी तीसरी पीढ़ी इंडियन।आर्मी में सेवाएं दे रही है। घर में छोटा होना के कारण रिश्तेदार कहते थे कि अक्षय को सेना में मत भेजो, मगर उन्होंने अपने परिवार की सैन्य पृष्ठभूमि को प्राथमिकता देते हुए किसी की भी बात न मानते हुए अक्षय को फौज में भर्ती करवा दिया। उन्होंने कहा कि बेटे के जाने का उन्हें दुख तो बहुत है, मगर उसकी शहादत पर गर्व भी है कि वो देश की सुरक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहुति देकर अपना सैन्य धर्म निभा गया।
शहीद अक्षय की मां रितू पठानिया ने बताया कि अक्षय बेशक सेना में भर्ती था, लेकिन वह उसे हर रोज वीडियो कॉल करके उसका हाल पूछता था और । फरवरी को भी अक्षय ने उसे वीडियो कॉल की तथा जैसे ही उसने हैलो की तो अक्षय ने कहा कि मां अपना ध्यान रखना और इतनी बात कहते ही फोन कट ऑफ हो गया और उसके पश्चात उसका फोन नहीं आया। मां रितू पठानिया ने बताया कि बेटे के फोन की लाइन क्या कटी, मानो मेरी तो दुनियां ही उजड़ गई। उन्होंने बताया कि लाडले बेटे के जाने से उनके परिवार पर जो दुखों का पहाड़ टूटा है,शायद ही वह इस सदमे से उभर पायें। शहीद अक्षय की मां ने बताया कि अक्षय नवम्बर माह में एक माह की छुट्टी काटकर अपनी यूनिट में वापिस गया था तथा कहता था कि वो चढ़ते वर्ष में जल्द छुट्टी पर आएगा,मगर उन्हें क्या पता कि अब उनका बेटा लम्बी छुट्टी पर चला गया है, जहां से वो कभी वापिस नहीं आएगा।

इस अवसर पर शहीद परिवार के साथ दुख बांटने पहुंचे शहीद सैनिक परिवार सुरक्षा परिषद के महासचिव कुंवर रविन्द्र सिंह विक्की ने बताया कि हमारे जांबाज सैनिक कठिन परिस्थितियों में ड्यूटी निभाते है ताकि देशवासी सुरक्षित रह सके। उन्होंने कहा कि हमारे वीर सैनिक जहां सीमा पार से पाक द्वारा प्रायोजित आतंकवाद से जूझ रहे है, वहीं खराब मौसम व बर्फीले आतंक का भी सामना करते हुए अपनी शहादतें दे रहे है। उन्होंने कहा कि गांव चक्कड़ जिला पठानकोट का एक ऐसा गांव है, जो सैनिकों व स्वतंत्रता सेनानियों के नाम से जाना जाता है। जहां इस गांव में 90 प्रतिशत सैनिक देश की सेवा कर चुके है व कर रहे है, वहीं इस गांव ने देश को दो स्वतंत्रता सेनानी भी दिए है। इस गांव के सैनिकों ने जहां 1965 व 1971 की भारत-पाक जंग में अपने वीरता के जौहर दिखाए, वहीं कश्मीर में पाक द्वारा छेड़े अघोषित युद्घ में भी इस गांव के युवा दुश्मन को करारी शिकस्त दे रहे हैं, मगर देश की बलिबेदी पर कुर्बान होने वाले अक्षय इस गांव के पहले ऐसे सैनिक है, जिन्होंने अपना नाम शहीदों की श्रृंखला में अंकित करवा लिया है। कुंवर विक्की ने बताया कि शहीद राइफलमैन अक्षय पठानिया की तिरंगे में लिपटी पार्थिव देह आज चक्कड़ में पहुंचेगी, जहां पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका दाह।संस्कार किया जाएगा।

संबंधित पोस्ट

चीन के COVID मामलों ने एक नया रिकॉर्ड बनाया |

Admin

बिडेन का पर्यावरण बचाने का बड़ा फैसला: पर्यावरण नीति के अहम हिस्से बहाल, ट्रंप ने विकास का हवाला देकर रोका था

Karnavati 24 News

नेपाल के प्रधान न्यायाधीश राणा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव संसद में पेश

Karnavati 24 News

रूस-यूक्रेन युद्ध अपडेट: ब्रिटेन देगा यूक्रेन को मल्टी-लॉन्च रॉकेट सिस्टम, ब्रिटिश रक्षा मंत्री बोले- मुझे विश्वास है यूक्रेन जीतेगा

Karnavati 24 News

चीन ने नए हाइपरसोनिक इंजन का किया टेस्ट, बना सकता है DF-17 जैसी दूसरी मिसाइल

Karnavati 24 News

यूक्रेन के बंकर में छुपी भारतीय महिला, पति को बचाया: दवा की पढ़ाई कर रही थी पति का जहाज लाल सागर में अपहरण